Home किसान न्यूज़ समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए करना होगा स्लॉट बुकिंग, इस...

समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए करना होगा स्लॉट बुकिंग, इस बार नही आयेगें SMS

0
3977
Mp e euparjan slot booking

अगर आप समर्थन मूल्य पर गेहूँ या अन्य फसल को बेचना चाहते है तो इसके लिए आपने mp euparjan portal पर रजिस्ट्रेशन जरूर करवाया होगा, इस वर्ष समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए बहुत सारे। नियमो में बदलाव किया गया है । प्रति वर्ष फसल बेचने के लिए किसानों के मोबाइल पर sms के माध्यम से तारीख और यूपार्जन केंद्र की सूचना दी जाती थी, इस वर्ष sms नही भेजे जायँगे इसके बदले में स्लॉट बुकिंग किया जायेगा।

प्रत्येक उपार्जन केन्द्र पर गेहूं की तौल क्षमता का निर्धारण पोर्टल पर किया जाएगा, जिसके अनुसार प्रति तौल कांटा प्रतिदिन 250 क्विंटल के मान से गणना की गई है। निर्देश दिये गये हैं कि प्रत्येक उपार्जन केन्द्र पर प्रतिदिन न्यूनतम 1000 क्विंटल उपज की तौल हेतु 4 तौल कांटे आवश्यक रूप से लगाए जाएं एवं उपार्जन केन्द्र पर गेहूं की आवक अनुसार तौल कांटों की संख्या में वृद्धि की जाए, जिसकी तत्समय पोर्टल पर प्रविष्टि की जा सकेगी।

क्या है Mp e uparjan स्लॉट बुकिंग

किसानों द्वारा 23 मार्च से स्लॉट बुकिंग www.mpeuparjan nic.in पर की जा सकेगी। इस लिंक की जानकारी एसएमएस  के माध्यम से कृषक के मोबाइल पर प्रेषित की जाएगी। ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत,सत्यापित कृषक द्वारा स्वयं के मोबाइल/एमपी ऑनलाईन,सीएससी,ग्राम पंचायत,लोक सेवा केन्द्र/इन्टर नेट कैफे,उपार्जन केन्द्र से स्लॉट बुकिंग की जा सकेगी। स्लॉट बुकिंग हेतु कृषक के ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत मोबाइल पर ओटीपी प्रेषित किया जाएगा, जिसे पोर्टल पर दर्ज करना होगा।

यह भी पढ़ें – इस मंडी में 5675 रु. प्रति क्विंटल बिका गेहूँ

कृषकों को अपनी उपज विक्रय करने हेतु स्लॉट बुकिंग दो पारी में (प्रातः 9 से दोपहर 1 बजे एवं अपरान्ह 2 से शाम 6 बजे) की जा सकेगी, जिसमें से एक पारी का चयन किया जा सकेगा।

उपार्जन केन्द्र की तौल क्षमतानुसार लघु/सीमांत एवं बड़े कृषकों को मिलाकर स्लॉट बुकिंग की सुविधा रहेगी, जिसमें प्रतिदिन 100 क्विंटल से अधिक विक्रय क्षमता के 4 कृषक तक हो सकेंगे। स्लॉट बुकिंग के समय पोर्टल पर कृषक की विक्रय योग्य कुल मात्रा प्रदर्शित कराई जाएगी, जिसमें कृषक द्वारा वास्तविक विक्रय योग्य कुल अनुमानित मात्रा की प्रविष्टि करनी होगी, इस मात्रानुसार ही कृषक से उपज की खरीदी की जा सकेगी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

close