Homeकिसान न्यूज़जानिए इस वर्ष कैसे होगी समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी, बदले...

जानिए इस वर्ष कैसे होगी समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी, बदले गए नियम

मध्यप्रदेश सरकार हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी किसानों से समर्थन मूल्य पर अनाज की खरीदी करती है। सरकार इस वर्ष की खरीदी शुरू करने जा रही है। यह खरीदी mp euparjan portal के माध्यम से की जाती है। इस वर्ष इस पोर्टल पर अनेक प्रकार के बदलाव किये गए है जिनकी आपको जानकारी होना अत्यंत जरुरी है। तो चलिए जानते है कैसे होगी समर्थन मूल्य पर उपज की खरीदी।

समर्थन मूल्य पर खरीदी की तारीख

प्रदेश सरकार 28 मार्च से गेहूँ खरीदी प्रारंभ करने जा रही है। इंदौर एवं उज्जैन संभाग के जिलों में 28 मार्च से 10 मई, 2022 तक एवं नर्मदापुरम, जबलपुर, रीवा, शहडोल, सागर, ग्वालियर, भोपाल एवं चम्बल संभाग के जिलों में 4 अप्रैल से 16 मई तक खरीदी की जायेगी।समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी इस वर्ष भी 4663 केन्द्रों पर की जायेगी। इसके अतिरिक्त सायलो मालिकों द्वारा संचालित उपार्जन केन्द्र पर अलग से खरीदी होगी, जो 4663 केन्द्रों के अतिरिक्त होंगे।

यह भी पढ़ें – गेहूं ने तोड़े सभी रिकॉर्ड, MP की इस मंडी में 5675 रु. प्रति क्विंटल तक बिका गेहूं

बायोमेट्रिक सत्यापन से हुआ पंजीयन

वास्तविक कृषकों का ही पंजीयन हो सके, इसके लिये शासन द्वारा पंजीयन करने के लिये आधार नम्बर आधारित बायोमेट्रिेक/ओटीपी सत्यापन के आधार पर पंजीयन की व्यवस्था की गई थी। इसमें कुल पंजीयन का 41 प्रतिशत बायोमेट्रिक सत्यापन के द्वारा पंजीयन किया गया। इसके तहत ऐसे शारीरिक रूप से अक्षम एवं वृद्ध कृषक, जिनके पास आधार नम्बर नहीं था, उन्हें नामिनी के माध्यम से पंजीयन की सुविधा उपलब्ध कराई गई थी।

किसानों को करना होगा स्लॉट बुक

किसानों को फसल बेचने के लिये एसएमएस की प्रतीक्षा नहीं करना होगी। अब वे स्वयं स्लॉट बुकिंग कर अपनी पसंद के उपार्जन केन्द्र और विक्रय के लिये दिनांक तथा समय का चयन www.mpeuparjan.nic.in पर कर सकेंगे। खरीदी सोमवार से शुक्रवार तक प्रात: 9 से दोपहर एक बजे तक एवं 2 बजे से 6 बजे तक की जाएगी । फसल विक्रय के लिये स्लॉट की वैधता 3 कार्य दिवस के लिये होगी।

यह भी पढ़ें – समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए करना होगा स्लॉट बुकिंग, इस बार नही आयेगें SMS

भुगतान आधार लिंक खाते में

कृषकों को उसकी उपज का भुगतान उनके आधार लिंक खाते में करने की व्यवस्था की गई है, ताकि किसी भी प्रकार की त्रुटि की संभावना को समाप्त किया जा सके।इसके लिए किसान को बैंक शाखा में जाकर खाते को आधार से लिंक कराना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

close