HomeAgri Businessकेंचुआ खाद का agri business कर हर महीने 1 लाख से ज्यादा...

केंचुआ खाद का agri business कर हर महीने 1 लाख से ज्यादा कमा रही पायल

नमस्कार किसान भाइयो आज हम आपके लिए agri business से जुड़ा सफल business का उदाहरण लेकर आए है। जिसमे agri business करने वाली पायल महीने का 1 लाख से ज्यादा की कमाई कर रही है यह बिज़नेस कृषि से जुड़ा हुआ है। पायल ने यह business केवल 2 साल में सफल बना लिया है जो उनकी कमाई का अच्छा खासा जरिया भी बन गया है।

आज हम कृषि क्षेत्र से जुड़ी एक ऐसी सफल कहानी बताने जा रहे हैं, जो मेरठ में रहने वालीं 27 वर्षीय पायल अग्रवाल की है. पायल ने बीटेक की पढ़ाई की है, साथ ही सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहीं हैं. वह बैंक पीओ, क्लर्क आदि की परीक्षा दे चुकी हैं, लेकिन खास सफलता नहीं मिल पाई। पायल पढ़ाई के साथ-साथ सोशल मीडिया पर छोटे-मोटे agri business भी खोजती रहती हैं। इस दौरान उन्हें वर्मी- कम्पोस्ट यानी केंचुआ खाद बनाने का agri business idea आया। आज उन्हें करीब 2 साल हो गए केंचुआ की खाद Vermicompost का agri business करते हुए, इससे वह हर महीने में 1 लाख रुपए से ज्यादा का मुनाफा कमा रही रही हैं।

इस तरह से की Vermicompost बनाने की तैयारी

केंचुआ खाद (Vermicompost) बनाने की शुरुआत पायल ने 22 साल की उम्र में खाद बनाने की शुरुआत की। यह खाद किचन वेस्ट से तैयारी होती थी। यानी किचन में जो सब्जी के छिलके, फलों के छिलके निकलते थे, वह उन्हें एक कंटेनर में डालती थी। इस तरह करीब 15 दिनों तक कचरा एकत्र होता रहता था, वह उसमें पानी डालकर सड़ने देती थीं, साथ ही उसमें गोबर मिला देती थीं। इस तरह 1 महीने में खाद तैयार हो जाती थी। ऐसे किया बिजनेस शुरू इसके बिजनेस के लिए जमीन की जरूरत थी, लेकिन पायल के पास खुद की जमीन नहीं थी.

agri business vermicompost
agri business vermicompost

इसे भी पढ़ें – Custom Hiring Center – 2021 योजना खरीदें 50 लाख के कृषि यंत्र सरकार देगी 80% तक सब्सिडी

business के लिए जमीन किराए पर ली

इसके बाद पायल ने करीब डेढ़ एकड़ जमीन किराए पर ली थी। इसका सालाना किराया करीब 40 हजार रुपए था। उन्होंने पानी के लिए बोरिंग करवाई, बिजली के लिए पुराना जनरेटर लगवाया, फावड़ा- तगाड़ी जैसे छोटे-छोटे औजार खरीदे। इसके बाद काली पॉलीथिन के 2 रोल बुलवाए. जिससे 12 बेड बन जाते हैं। यानी 2 से 24 बेड बन गए. इनके जो टुकड़े बचे थे, उससे 2 बेड और बन गए। इस तरह करीब 26 बेडबन गए।इसके बाद पायल ने गोबर और केंचुए डाल दी और इसके ऊपर पराली बिछा दी। इस पर रोजाना 1 बार पानी छिड़का, ताकि नमी बरकरार रहे और हवा भी लगती रहे।

इसे भी पढ़े – जीवामृत jivamrit क्या है जीवामृत बनाने की आसान विधि और उपयोग

अब 500 बेड लगाकर बनाती हैं

खाद इस वक्त पायल हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, अलीगढ़, बरेली, महाराष्ट्र, आगरा, कश्मीर, जामनगर जैसे शहरों में वर्मी कम्पोस्ट की यूनिट लगवा चुकी हैं। वह इसका कोई चार्ज नहीं लेती हैं, बल्कि सिर्फ केंचुआ खाद की सप्लाई करती हैं। इस वक्त उनके पास स्किल्ड लेबर हैं. अगर कहीं यूनिट लगानी होती है, तो वहां उनकी एक लेबर जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

close