HomeFarmingbest Wheat variety 2021 top 10 Variety जो देती है 75 क्विंटल...

best Wheat variety 2021 top 10 Variety जो देती है 75 क्विंटल तक उत्पादन गेहूं की किस्म – wheat farming

best Wheat variety 2021 top 10 Variety जो देती है 75 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उत्पादन गेहूं की किस्म एवं उनके लिए आवश्यक जलवायु सिंचाई उत्पादन के साथ यहां बताई गयी है। new Wheat variety list in mp india के लिए है। यहां पर गेहूं की किस्म जैसे wheat GW 322, GW 273, श्री राम सुपर 111, गेहूं पूसा तेजस 8759, HD 4728(Pusa Malawi), HD 3298, JW 1142, HI 8498 की जानकारी उत्पादन क्षमता के बताई गयी है

गेहूं की फसल में उत्पादन गेहूं की किस्म wheat variety पर निर्भर करता है। आपको इस लेख में हम गेहूं की 10 ऐसी variety के बारे में बताएंगे जो 70 क्विंटल प्रति हेक्टेअर के हिसाब से उत्पादन देती है। यह किस्में हाल ही में बीज निगमों द्वारा तैयार की गयी है। गेहूं की इन किस्मों में रोग एवं कीटों का प्रकोप बहुत काम रहता है इसके साथ ही यह variety काम पानी में पककर तैयार हो जाती है। यह किस्में भारत के लगभग सभी प्रातों जहाँ गेहूं की खेती की जाती है उनमे उगाई जा सकती है।

best wheat variety 2021

GW 322

यह मध्यप्रदेश MP राज्य में सबसे अधिक उगाई जाने वाली Wheat variety है जो 115-120 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। गेहूं GW 322 की पैदावार 60 – 62 क्विंटल तक है। 322 गेहूं भारत के सभी राज्यों में खेती की जा सकती है। यह वैरायटी 3 – 4 पानी में पक जाती है।


पूसा तेजस 8759 –

पूसा तेजस्व 8759 गेहूं वर्ष 2019 में विकसित की गयी है जबलपुर के कृषि विश्वविद्यालय में पूसा तेजस गेहू का उत्पादन एक हेक्टेयर में 70 क्विंटल उत्पादित की गयी थी इसके बाद किसानो की इस wheat variety में रूचि बढ़ी। गेहूं की यह किस्म करीब 110 – 115 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। यह बीज कम पानी में पककर तैयार हो जाता है।


wheat GW 273 –

गेहूं की Variety GW 273 लगभग 115-125 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। गेहूं GW 273 की पैदावार 60 – 65 क्विंटल तक है। यह वैरायटी 3 – 4 पानी में पक जाती है।

pic show plant of wheat gw 273

श्री राम सुपर 111 गेहूं –

यह गेहूं लगभग 105 दिन में पक कर तैयार हो जाता है। श्री राम 111 अगेती एवं पछेती बुवाई के लिए उपयुक्त है। इस variety का दाना कठोर एवं चमकदार होता है ,मध्यप्रदेश के किसानो के अनुसार श्री राम सुपर 111 का उत्पादन 22 क्विंटल प्रति एकड़ के हिसाब से है श्रीराम फ़र्टिलाइज़र्स एण्ड कैमिकल्स के विश्वविख्यात गेहूँ वैज्ञानिकों द्वारा इस किस्म को तैयार किया गया है।

HD 4728(Pusa Malawi) –

यह गेहूं 125-130 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। गेहूं HD 4728(Pusa Malawi) की पैदावार 55 क्विंटल तक है। HD 4728(Pusa Malawi) गेहूं भारत के सभी राज्यों में खेती की जा सकती है। यह वैरायटी 3 – 4 पानी में पक जाती है।

wheat HD 3298 –

यह गेहूं 125-130 दिन में पक कर तैयार हो जाती है। गेहूं HD 3298 की पैदावार 55 -60 क्विंटल तक एक हेक्टेयर में रहती है। HD 3298 गेहूं भारत के सभी राज्यों में खेती की जा सकती है। यह वैरायटी 3 – 5 पानी में पक जाती है। इस wheat variety में फंगस जनित रोग नहीं लगते है ,इस गेहूं का दाना सुडोल रहता है।

यह भी पढ़ें – Custom Hiring Center – 2021 योजना खरीदें 50 लाख के कृषि यंत्र सरकार देगी 80% तक सब्सिडी

shree ram 303 wheat variety –

गेहूं shree ram 303 कंपनी द्वारा विकसित की गयी है। इस गेहूं का दाना अन्य गेहूं की अपेक्षा लम्बा रहता है। इसके पौधों में कल्लो की संख्या अधिक होती है जिसकी बजह से shree ram 303 variety में अधिक उत्पादन मिलता है। यह गेहूं 110 दिन में पककर तैयार हो जाती है। इसका उत्पादन प्रति हेक्टेयर 75 क्विंटल तक है।

wheat JW 1142 –

गेहूं की किस्म JW 1142 जबलपुर कृषि विश्विद्यालय में तैयार की गयी है JW 1142 गेहूं की उत्पादन क्षमता 55- 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक है। यह अगेती एवं पछेती दोनों प्रकार से वोई जा सकती है। इस गेहूं माहु कीट का प्रकोप कम रहता है तथा यह 125 दिन में पककर तैयार हो जाती है।

HI 8498 –

गेहूं की किस्म HI 8498 जबलपुर कृषि विश्विद्यालय में तैयार की गयी है HI 8498 गेहूं की उत्पादन क्षमता 55- 57 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक है। यह अगेती एवं पछेती दोनों प्रकार से वोई जा सकती है। इस गेहूं माहु कीट का प्रकोप कम रहता है तथा यह 125 -130 दिन में पककर तैयार हो जाती है।

JW 1201 –

गेहूं की किस्म JW 1201 जबलपुर कृषि विश्विद्यालय में तैयार की गयी है JW 1201 गेहूं की उत्पादन क्षमता 55- 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक है। यह अगेती एवं पछेती दोनों प्रकार से वोई जा सकती है। इस गेहूं माहु कीट का प्रकोप कम रहता है तथा यह 125 – 130 दिन में पककर तैयार हो जाती है।


किसान भाईओ सभी क्षेत्र में अलग अलग प्रकार की wheat variety भूमि की उपजाऊ क्षमता के आधार पर उत्पादन देती है। अगर आपकी भूमि उपजाऊ नहीं है तो उसमे गेहूं का उत्पादन कम होगा चाहे कोई भी वैरायटी लगाए। ऐसे में गेहूं के बीज वैरायटी का चयन भूमि अनुसार करना चाहिए। अधिक उत्पादन लेने के लिए आवश्यकता अनुसार उर्वरकों का प्रयोग करना चाहिए।

पोस्ट में बताई गयी 10 wheat variety की जानकारी एवं इनकी उत्पादन क्षमता किसानो द्वारा प्राप्त जानकारी के आधार पर आपको बताई गयी है। हमारी टीम ने कृषि वैज्ञानिक एवं किसानो से जानकारी लेकर आपको बताई है। उत्पादन कम ज्यादा होने पर हम जबावदार नहीं है। हमारा काम केवल जानकारी देना है।

ऐसी जानकारी Wheat variety ;10 गेहूं की Variety जो देती है 75 क्विंटल तक उत्पादन किसानो को टीवी पर नही मिलेगी अतः दूसरे किसानो के हित के लिए यह जानकारी शेयर करें शेयर करने के लिए whats app button पर क्लिक करें।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

close